विराट कोहली

विराट कोहली का सात टेस्ट पारियों में एक-एक रन के लिये तरसने के बाद दोहरा शतक जमाना हो या फिर वीरेंद्र सहवाग का वनडे में सर्वोच्च स्कोर का तत्कालीन रिकॉर्ड, भारतीय कप्तानों के लिये देश के पहले टेस्ट कप्तान सीके नायडू के शहर इंदौर का होलकर स्टेडियम शुरू से भाग्यशाली रहा है.

बात 2016 की है जब कोहली अपनी बेहतरीन फॉर्म में थे और उनका बल्ला रन उगल रहा था, लेकिन इस बीच टेस्ट मैचों में ऐसा भी दौर आया जबकि सात टेस्ट पारियों में वह केवल 18.85 की औसत से 132 रन ही बना पाये थे.

ऐसे में कोहली के आलोचक सक्रिय हो गये थे. न्यूजीलैंड के खिलाफ तीसरा टेस्ट मैच आठ से 11 अक्तूबर के बीच होलकर स्टेडियम में खेला जाना था. इससे पहले श्रृंखला की चार पारियों में कोहली ने 9, 18, 9 और 45 रन बनाये थे.

होलकर स्टेडियम इस मैच से टेस्ट स्थल भी बना और इसे 211 रन की जोरदार पारी खेलकर यादगार बनाया कप्तान कोहली ने. उस समय यह कोहली का टेस्ट मैचों में सर्वोच्च स्कोर भी था. भारत ने यह मैच 321 रन के विशाल अंतर से जीता था. वर्तमान वनडे श्रृंखला में कोहली पहले मैच में खाता नहीं खोल पाये थे जबकि दूसरे में शतक से चूक गये थे. उनकी निगाह होलकर में रिकी पोंटिग के 30 शतकों का रिकॉर्ड तोड़ने पर रहेगी.

यहां खेले गये एकमात्र टेस्ट मैच में टॉस भी कोहली ने जीता था. यही नहीं होलकर में अब तक जितने एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच खेले गये हैं उन सभी में सिक्के ने भारतीय कप्तानों का साथ दिया.

भारत इन सभी मैचों में जीत दर्ज करने में भी सफल रहा.

इसलिए जब कोहली की टीम यहां 24 सितंबर को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरा वनडे खेलने के लिये उतरेगी तो उसका लक्ष्य यहां शत प्रतिशत जीत का रिकॉर्ड बरकरार रखना होगा.

होलकर में पहला वनडे 15 अप्रैल 2006 को इंग्लैंड के खिलाफ खेला गया था जिसमें भारत ने सात विकेट से जीत हासिल की. उस श्रृंखला में भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ रन बनाने के संघर्ष कर रहे थे लेकिन अपने जन्म स्थान इंदौर में उन्होंने तब 69 रन की पारी खेलकर भारतीय जीत में अहम भूमिका निभायी थी.

इंग्लैंड के खिलाफ 17 नवंबर 2008 को महेंद्र सिंह धोनी के अगुवाई में खेला गया वनडे भारत ने 54 रन से जीता था.

धोनी को हालांकि 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ एकदिवसीय श्रृंखला में विश्राम दे दिया गया और उनकी जगह सहवाग को टीम की कमान सौंप दी गयी. श्रृंखला के पहले तीन मैचों में सहवाग केवल 20, 26 और शून्य रन ही बना पाये थे. उन पर बड़ी पारी खेलने का दबाव था और ऐसे में उन्हें होलकर स्टेडियम ने आदर्श स्थिति उपलब्ध करायी जहां गेंद बल्ले पर अच्छी तरह से आ रही थी और बाउंड्री भी अपेक्षाकृत थोड़ी छोटी हैं.

सहवाग ने आठ दिसंबर 2011 को खेले गये मैच में 219 रन की लाजवाब पारी खेली. इसके लिये उन्होंने 149 गेंदों का सामना किया तथा 25 चौके और सात छक्के लगाये. सहवाग ने सचिन तेंदुलकर के नाबाद 200 रन के रिकॉर्ड को तोड़ा जो उन्होंने 24 फरवरी 2010 को ग्वालियर में बनाया था.

संयोग देखिये कि वनडे में चार दशक तक कोई दोहरा शतक नहीं बना लेकिन जब शुरुआत हुई तो दो साल के अंदर दो दोहरे शतक लग गये और इन दोनों का गवाह मध्यप्रदेश की धरती बनी.

सहवाग का रिकॉर्ड बाद में रोहित शर्मा ने तोड़ा जिन्होंने 13 नवंबर 2014 को श्रीलंका के खिलाफ कोलकाता में 264 रन बनाये थे. इंदौर में रिकॉर्ड बनाने के बाद सहवाग का बल्ला फिर से कुंद पड़ गया था.

इसके बाद उन्होंने संन्यास लेने तक जो 11 वनडे मैच खेले उनमें वह 22.54 की औसत से 248 रन ही बना पाये जिसमें केवल एक अर्धशतक शामिल था.

होलकर में आखिरी वनडे 14 अक्तूबर 2015 को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला गया था जिसके नायक कप्तान महेंद्र सिंह धोनी रहे थे.

धोनी अपनी कप्तानी में इस मैदान पर पहले खेले गये मैच में बल्ले से कमाल नहीं दिखा पाये थे लेकिन दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ उन्होंने विकेट के आगे और विकेट के पीछे अच्छा प्रदर्शन करके भरपायी कर दी थी.

धोनी ने तब विषम परिस्थितियों में 92 रन की नाबाद पारी खेली थी और बाद में तीन कैच और एक स्टंप भी किया था.

भारत ने 22 रन से मैच जीता और धोनी को मैन ऑफ द मैच चुना गया.

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ उस श्रृंखला के पांच वनडे में यह एकमात्र मैच था जिसमें धोनी ने अर्धशतकीय पारी खेली थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *