होमी जहांगीर भाभा

भारत के इस वैज्ञानिक से अमेरिका को भी लगता था डर, करवा दी हत्या

भारत के परमाणु जनक होमी जहांगीर भाभा दुनिया के सबसे अच्छे वैज्ञानिकों में से एक थे. भाभा के नाम से दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका भी कांपता था. भाभा के समय में अमेरिका इस खौफ में जीने लगा था कि भारत उससे आगे न निकल जाए.

इसी डर को दूर करने के लिए अमेरिका ने भाभा को ख़त्म करने का प्लान बनाया. इस प्लान को 24 नवंबर 1966 को अंजाम दिया गया. इस दिन भारत के उम्मीद पर दुःख का पहाड़ टूट गया था. दरअसल 24 नवंबर को फ्रांस के आसमान में एक विमान एक्सीडेंट हुआ इस एक्सीडेंट में विमान के सभी यात्रियों की मौत हो गयी थी. उस यात्रियों में एक भारत के महान वैज्ञानिक भाभा भी थे.

भाभा के मौत के बाद भरा को परमाणु शक्ति बनने के उम्मीद को तगड़ा झटका लगा. भारत में भाभा ने हीं परमाणु ऊर्जा की कल्पना की थी. होमी जहांगीर भाभा ने एक छोटी सी वैज्ञानिक यूनिट के साथ मार्च 1944 में न्‍यूक्लियर एनर्जी पर रिसर्च प्रोग्राम शुरू किया था.

आपको यह जानकार हैरानी होगी की होमी जहांगीर भाभा ने न्‍यूक्लियर एनर्जी तब काम करना शुरू किया था जब दुनिया को इस मुद्दे के बारे में बहुत ही काम जानकारी थी. यही हीं नहीं भाभा के बात को भी कोई मानने को तैयार नहीं था की नाभिकीय उर्जा से विद्युत उत्पादन किया जा सकता है. इसी कारण भाभा को ‘आर्किटेक्ट ऑफ इंडियन एटॉमिक एनर्जी प्रोग्राम’ कहा जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *