खेल के इतिहास में ढ़ेरों ऐसे खिलाडी हुए हैं जो अपने जन्म स्थान को छोड़कर किसी और देश के लिए खेला है. अगर हम क्रिकेटर की बात करें तो आज के दौर में भी ढ़ेरों ऐसे क्रिकेटर हैं जो अपने जन्म स्थान को छोड़ क्र किसी और देश के लिए खेल रहे हैं.

अपने जन्म स्थान को छोड़ने के बाद भी यह क्रिकेटर क्रिकेट के जगत में अच्छा खासा नाम कमा चुके हैं. आज हम आपको पांच ऐसे ही क्रिकेटर के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका जन्म भारत में हुआ है लेकिन उन्होंने क्रिकेट किसी और देश के लिए खेला है.

5. नासीर हुसैन:-

इंग्लैंड के क्रिकेट इतिहास के सबसे सुलझे कप्तान नासीर हुसैन का जन्म चेन्नई में एक मुस्लिम परिवार हुआ था. नासीर हुसैन के पिता का नाम जावद था जो तमिलनाडु के लिए फर्स्ट क्लास क्रिकेट खेल चुके हैं. लेकिन जब नासीर हुसैन की उम्र लगभग सात साल की थी तब उनके पिता जावद इंग्लैंड चले गए और वहीं बस गए.

4. हाशिम अमला:-

वर्तमान समय के सबसे कुशल बल्लेबाज़ हाशिम अमला का जन्म सूरत गुजरात में हुआ था. लेकिन हाशिम अमला के दादा जी बाद में साउथ अफ्रीका जाकर बस गए. वर्तमान समय में हाशिम अमला दक्षिण अफ्रीका टीम के सबसे कुशल बल्लेबाज़ों में से एक हैं.

3. शिवनारायण चंद्रपॉल:-

शिवनारायण चंद्रपॉल अपने अज़ब गजब बैटिंग तकनीक के लिए दुनिया भर में मशहूर थे. आपको यह जानकर हैरानी होगी की शिवनारायण चंद्रपॉल भी भारतीय मूल के क्रिकेटर हैं जिन्होंने वेस्टइंडीज टीम के लिए क्रिकट खेला. शिवनारायण चंद्रपॉल आगे चलकर कुछ समय के लिए वेस्टइंडीज टीम के कप्तान भी बने.

2. एल्विन कलिचरन:-

 

एल्विन कलिचरन भी भारतीय मूल के क्रिकेटर हैं. जिन्होंने वेस्टइंडीज टीम के लिए क्रिकेट खेला. एल्विन कलिचरन 1972 से 1981 तक लगातार वेस्टइंडीज टीम के अभिन्न अंग रहे. अपने शांत स्वभाव के कारण एल्विन कलिचरन क्रिकेट फैंस के बीच काफी लोकप्रिय थे.

1. रोहन कन्हाई:-

रोहन कन्हाई की गिनती 60 के दशक के सबसे महान बल्लेबाज़ों में होती है. रोहन कन्हाई भी भारतीय मूल के कैरिबियन क्रिकेटर हैं. भारत के महान बल्लेबाज़ सुनील गवास्कर ने एक बार अपने इंटरव्यू में कहा था कि उनके नज़रों में रोहन कन्हाई दुनिया के महान क्रिकेटरों में से एक है. आपको यह जानकर हैरानी होगी की रोहन कन्हाई से प्रेरित होकर सुनील गवास्कर ने अपने बेटे का नाम रोहन रखा था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *