प्रद्युम्न मर्डर केस

प्रद्युम्न मर्डर केस में नया मोड़, नए आरोपी की सीबीआई कर सकती है गिरफ्तारी

प्रद्युम्न मर्डर केस में जांच कर रही सीबीआई रिमांड पर लिए गए 11वीं के स्टूडेंट से लगातार पूछताछ कर रही है। अपनी थ्योरी की पुष्टि के लिए सीबीआई गुरुवार शाम आरोपी स्टूडेंट को लेकर सोहना पहुंची। यहां उस दुकान पर लेकर गई जहां से आरोपी ने चाकू खरीदा था। वहीं इस मामले में अब एक अन्य स्टूडेंट के शामिल होने की बात कही जा रही है। गुरुवार को सीबीआई उस स्टूडेंट के घर की लोकेशन देखकर गई है। सूत्रों के हवाले से जानकारी मिल रही है कि इस स्टूडेंट को जल्द ही पकड़ा जा सकता है।

– आरोपी 11वीं स्टूडेंट को सीबीआई टीम उस दुकान पर ले गई, जहां से उसने चाकू खरीदा था। पूछताछ भी की।

– ऐसे में उस दुकानदार ने स्टूडेंट को पहचानने से इनकार कर दिया। दुकानदार का कहना है कि उसकी दुकान पर हररोज काफी लोग सामान खरीदने आते हैं। वह कैसे याद रख सकता है कि ढ़ाई महीने पहले वह स्टूडेंट चाकू खरीदने आया था।
आरोपी ने पिता के सामने कबूल की हत्या

– गिरफ्तार हुए आरोपी स्टूडेंट ने पिता के सामने गुनाह कबूल कर लिया। सीबीआई ने यह बात 11th क्लास के आरोपी स्टूडेंट की रिमांड के लिए जुवेनाइल कोर्ट में सौंपी कॉपी में कही।

– नोट के मुताबिक, ”मर्डर में किसी और के शामिल होने की जांच के लिए आरोपी की रिमांड जरूरी है। स्टूडेंट ने पिता और सीबीआई के वेलफेयर अफसर (इंडिपेंडेंट विटनिस) के सामने वारदात में शामिल होने की बात मानी है।”
मंगलवार को किया था गिरफ्तार

– सीबीआई के स्पोक्सपर्सन अभिषेक दयाल ने कहा, ”साइंटिफिक एविडेंस के आधार पर आरोपी स्टूडेंट को मंगलवार रात 11.20 पर हिरासत में लिया। परीक्षा और पेरेंट्स-टीचर मीटिंग (पीटीएम) टालने के लिए 11वीं के स्टूडेंट ने हत्या की।”

– ”आरोपी की उम्र 16 साल से कुछ ज्यादा है। उसे गिरफ्तार कर जुवेनाइल कोर्ट में पेश किया गया। सीबीआई ने 6 दिन की रिमांड मांगी पर कोर्ट ने इसे 3 दिन कर दिया।”

इस मामले में कितने लोग अरेस्ट हुए थे?

– इस केस में स्कूल के बस कंडक्टर अशोक कुमार के अलावा रेयान ग्रुप के दो अफसर रेयान ग्रुप के नॉर्थ जोन हेड फ्रांसिस थॉमस और भोंडसी स्थित स्कूल कोऑर्डिनेटर अरेस्ट हुए थे। इन अफसरों को जमानत मिल गई थी, लेकिन अशोक अभी भी ज्यूडिशियल कस्टडी में है। सोहना रोड स्थित सदर पुलिस स्टेशन के थाना प्रभारी को भी सस्पेंड किया गया था।

– उधर, रेयान ग्रुप के सीईओ रेयान पिंटो, उनके पिता ऑगस्टीन पिंटो और मां ग्रेस पिंटो ने बॉम्बे हाईकोर्ट, फिर पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में पिटीशन दायर करके एंटीसिपेटरी बेल (अग्रिम जमानत) देने की अपील थी। बाद में उन्हें पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने बेल दे दी थी।

source

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *