कन्हैया कुमार

जेएनयू के पूर्व छात्र नेता और जेएनयू प्रकरण के आरोपी कन्हैया कुमार ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी से की है. भाकपा ने कन्हैया कुमार को अपने 125 सदस्य वाले राष्ट्रीय परिषद में स्थान दी है.

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के तमाम निर्णय राष्ट्रीय परिषद के सदस्य ही लेते हैं. भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने अपने 23वीं पार्टी कांग्रेस में कन्हैया कुमार को राष्ट्रीय परिषद में जगह दी है. आपको यह जानकर हैरानी होगी की राष्ट्रीय परिषद में जगह मिलने से एक दिन पहले कन्हैया कुमार ने भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी को कन्फ्यूज पार्टी कहा था.

कन्हैया कुमार ने अपने बयान में कहा था कि कांग्रेस को समर्थन के बजाय भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी को खुद को मजबूत करना चाहिए ताकि कांग्रेस भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी का समर्थन लेने के लिए कांग्रेस को खुद झोली फैलानी पड़े.

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी में शामिल होने से पहले कन्हैया कुमार एआईएसएफ के सदस्य थे. आपको यहां यह बता दें कि कन्हैया कुमार कुछ दिन पहले बिहार के बेगूसराय संसदीय सीट से लोकसभा चुनाव लड़ने की इच्छा जाहिर की थी.

कन्हैया ने कहा था कि अगर महागठबंधन बिहार में उन्हें चुनाव लड़ने की जिम्मेदारी देती है तो वह यह जिम्मेदारी उठाने के लिए तैयार है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *